40 दिन से कोटा में फंसे गया और आस पास के 994 छात्र सोमवार को गया पहुँचे । गया जंक्शन पहुंचने वालों में से गया के 364, नवादा के 259, औरंगाबाद के 241, जहानाबाद के 93 और अरवल के 37 छात्र-छात्राएं शामिल हैं । ट्रेन के गया जंक्शन पहुंचते ही ट्रेन से छात्रों ने ताली बजाकर अपनी खुशी का इजहार किया ।

गया जंक्शन के मुख्य द्वार पर और डेल्हा साइड में अलग-अलग काउंटर बनाए थे । स्टेशन परिसर में छात्रों की स्क्रीनिंग करने के बाद उन्हें अपने-अपने संबंधित जिलों में भेजा गया । छात्रों से 21 दिन के लिए होम क्वारंटाइन रहने के लिए घोषणा पत्र भी दिया गया । साथ ही उनके हाथ पर होम क्वारंटाइन के लिए मुहर भी लगायी गई । छात्रों के स्वागत के लिए कृषि मंत्री प्रेम कुमार जंक्शन पर मौजूद रहे । गया के डीएम अभिषेक सिंह और एसएसपी राजीव मिश्रा ने पूरी व्यवस्था का जायजा लिया और छात्रों को हौसला अफजाई किया । बस में बैठने से पहले छात्रों को नाश्ता का पैकेट और पानी की बोतल दी गई ।

एस्कार्ट के साथ बसों से भेजे गए छात्र
गया से छात्रों को उनके जिलों में भेजा गया । इससे पहले वहां के डीएम से संपर्क कर मजिस्ट्रेट की तैनाती गया जंक्शन पर की गई थी । गया के डीएम अभिषेक सिंह के नेतृत्व में बच्चों को उनके जिलों मे भेजा दिया गया । सभी बसों के साथ एस्कार्ट की व्यवस्था हुई है । बच्चों के अभिभावक स्थानीय प्रशासन से संपर्क पर अपने बच्चों को घर ले गये ।

सभी बच्चों की स्क्रीनिंग की गई । जिन बच्चों में किसी प्रकार के लक्षण नहीं पाये गए उन्हें उनके घर भेजा दिया गया और जिन किसी में थोड भी लक्षण पाया जाने पर सैंपलिंग करायी गई । रिपोर्ट निगेटिव आने पर उन्हें घर भेजा जाएगा ।

बहुत से छात्र ने अपना सफ़र अच्छा बताया, और वो अपने घर वापस आ कर बहुत खुश हैं ।