तेलंगाना के बोलारम से 24 कोच वाली श्रमिक स्पेशल ट्रेन रविवार की सुबह 6:00 बजे गया जंक्शन पहुंची । ट्रेन में बिहार के विभिन्न जिलों के 1559 प्रवासी उतरे। सभी को सोशल डिस्टेंसिंग का पालन कराते हुए थर्मल स्क्रीनिंग की गई। प्रवासियों को प्लेटफॉर्म से बाहर आने के पहले क्वारेंटाइन मुहर लगाई गई व पंजीकरण किया गया। ट्रेन से उतरे प्रवासियों  में गर्भवती महिलाएं व काफी संख्या में बच्चे भी उतरे। चार मेडिकल टीम के साथ आरपीएफ जीआरपी, स्थानीय व रेल कर्मियों की बेहतर प्रबंधन से 7:45 में सभी प्रक्रिया पूरी कर ली गई।

जंक्शन परिसर में खड़ी बसों से सभी को गंतव्य को भेजा गया। श्रमिकों ने बताया कि बोलारम स्टेशन पर ट्रेन में बैठने के दौरान 645 रुपए के प्रिंट मूल्य का रेलवे टिकट दिया गया। लेकिन टिकट का पैसा हमलोगों से नहीं लिया गया। रास्ते में विभिन्न स्टेशनों पर खाना व सीलबंद बोतल पानी दिया गया। प्लेटफॉर्म पर ट्रेन से उतरे कुछ गर्भवती महिला को देखकर जवानों ने आरपीएफ इंस्पेक्टर को सूचना दी। निर्देश पर उन्हें तुरंत कतार से बहार निकालकर प्राथमिकता के तौर पर पहले स्क्रीनिंग व अन्य औपचारिकताएं पूरी करवाई गई। 

चेन पुलिंग कर उतरे 15 श्रमिक, धराने के बाद हुए क्वारेंटाइन

बोलारम (तेलंगाना)-गया श्रमिक स्पेशल ट्रेन में सवार प्रवासियों ने भभुआ स्टेशन के पास चेन पुलिंग कर दिया। ट्रेन से 15 श्रमिक उतर गए। स्थिति को भांपते ही आरपीएफ की टीम ने सभी को रोका। ट्रेन से उतरे सभी कैमूर जिले के थे। आरपीएफ गया पोस्ट इंस्पेक्टर एएस सिद्दीकी ने बताया कि चेन पुलिंग कर उतरे लोगों को स्थानीय प्रशासन की मदद से स्वास्थ्य जांच के बाद गृह जिला में ही सभी को क्वारेंटाइन किया गया। चेन पुलिंग के दौरान एस्कॉर्ट दल ने ट्रेन को सुरक्षा घेरा में लिया।

सीएस की मॉनिटरिंग में 19 लोगों की ली स्वॉब टेस्ट सैंपलिंग

गया जंक्शन पर पहुंची बोलारम (तेलंगाना)-गया श्रमिक स्पेशल ट्रेन से उतरे 19 लोगों का स्वॉब टेस्ट के लिए सैंपलिंग हुआ।  सिविल सर्जन डॉ ब्रजेश कुमार सिंह की मौजूदगी में लोगों का रैंडम सैंपलिंग जांच के लिए भेजा गया। थर्मल स्क्रीनिंग के लिए दो-दो की संख्या में 4 मेडिकल टीमें लगी थी। सीएस डॉ. सिंह ने बताया कि गया जिला के 243 लोगों का थर्मल स्क्रीनिंग किया गया।