कोरोना (Corona Virus) के संक्रमण से पूरा विश्‍व परेशान है । जगह-जगह लॉकडाउन (Lockdown) या ऐसे ही अन्‍य प्रावधान किए गए हैं । संकट के बीच विभिन्न देशों में लॉकडाउन या अन्य कारणों से फंसे भारतीय नागरिकों (Indian Citizens) को स्वदेश लाने की कवायद शुरू हो गई है। उनकी घर वापसी जल्‍द होने जा रही है। गृह मंत्रालय (Ministry of Home) के निर्णय के अनुसार करीब आठ हजार बिहारी नागरिकों को विदेश से विमान के जरिए गया हवाई अड्डा (Gaya Airport) पर लाया जा सकता है। विदेश से आने वाले सभी यात्रियों के स्वास्थ्य परीक्षण के लिए बोधगया में बने क्वारंटाइन सेंटर (Quarntine Centre) में रखा जाएगा ।

गृह मंत्रालय ने मंगलवार को विदेशों से भारतीयों को स्वदेश लाए जाने की प्रक्रिया को लेकर एक प्रोटोकॉल जारी किया है। इसके मुताबिक सबसे पहले स्वदेश लाए जाने वाले नागरिकों को विदेश में भारतीय मिशनों में एक फार्म भरकर पंजीयन कराना होगा। सभी को भुगतान के आधार पर सुविधा दी जाएगी। जिन यात्रियों में कोविड-19 से संक्रमित होने का कोई लक्षण नहीं होगा, उन्हें ही स्वदेश आने की अनुमति मिलेगी। हर यात्री को एक प्रोटोकॉल का पालन करना होगा। गंतव्य स्थान पर पहुंचने के बाद हर यात्री को Aarogya Setu App के तहत पंजीयन करना होगा। सभी की मेडिकल स्क्रीनिंग होगी। इसके बाद इन्हें 14 दिनों के लिए क्वारंटाइन में रहना होगा। इसके लिए अस्पतालों में व्यवस्था की जाएगी। भुगतान के आधार पर राज्य सरकार की तरफ से स्थापित सुविधा केंद्र में रहना होगा। 14 दिन के बाद सभी की कोविड-19 की जांच होगी। जांच निगेटिव आने के पर ही उन्हें बाहर जाने की अनुमति मिलेगी।