• कोटा प्रशासन ने छात्रों को उनके मोबाइल फोन पर SMS के माध्यम से यात्रा के बारे में सूचित किया है ।
  • ट्रेन में सवार होने की उम्मीद में बड़ी संख्या में छात्र कोटा स्टेशन के बाहर जमा हो गए थे ।

कोटा : बिहार के 1,200 से अधिक छात्र, जो लॉकडाउन के कारण एक महीने से अधिक समय से कोटा में फंसे हुए थे, आखिरकार रविवार को एक विशेष ट्रेन में अपने राज्य के लिए रवाना हो गए, लेकिन 10,000 से भी अधिक अभी भी राजस्थान शहर में अटके हुए हैं ।

24 डिब्बों में बैठे 1,211 छात्र दोपहर 12 बजे के आसपास बिहार के लिए कोटा से रवाना हुए ।

रेलवे अधिकारियों ने कहा कि गया जोन के छात्रों को लेकर एक अन्य रेल 03 मई 2020 को रात्रि में रवाना होगी ।

कोटा प्रशासन ने सभी छात्रों को उनके रेजिस्टर मोबाइल पर पहले ही इसकी सूचना कर दी है । और भिड़ ना लगे, इस के लिए उन्हें निर्धारित समय पर रिपोर्ट करने को कहा है ।

ग़ौरतलब है कि 25 मार्च से बिहार के छात्र कोटा में लाक्डाउन होने के कारण फ़से थे, और बिहार सरकार से घर वापसी की माँग कर रहे थे।