STET परीक्षा के दौरान सहरसा और गया केंद्रों पर गड़बड़ी की शिकायत मिली थी. परीक्षार्थियों ने इन केंद्रों पर उपद्रव किया था. इसके बाद ही अब बिहार बोर्ड ने परीक्षा रद्द करने का फैसला किया है.

बिहार में एसटीईटी (STET) रद्द कर दिया गया है. बिहार बोर्ड (Bihar Board) ने इसी साल 28 जनवरी को हुई परीक्षा में गड़बड़ी के मामलों को लेकर ये फैसला लिया है. इसमें 2 लाख 43 हजार 141 परीक्षार्थियों ने भाग लिया था. बोर्ड ने परीक्षा के फिर से आयोजन को लेकर सरकार को शिक्षा विभाग ने प्रस्ताव भेज दिया है. STET की परीक्षा दोबारा कब ली जाएगी, इसके बारे में शिक्षा विभाग ही अंतिम फैसला लेगा. गौरतलब है कि अभी हाल ही में बिहार सरकार ने राज्य में 34 हजार पदों पर शिक्षक बहाली के लिए अधिसूचना जारी की थी. इस परीक्षा के रद्द होने का इस प्रक्रिया पर असर पड़ सकता है.

कमेटी ने सौंपी रिपोर्ट

सहरसा और गया केंद्र पर हुए उपद्रव के बाद बोर्ड ने मामले की जांच के लिए चार सदस्यों की एक कमेटी का गठन किया था. इस कमेटी ने हाल ही में अपनी रिपोर्ट बोर्ड को सौंपी थी. जिसमें परीक्षा की गोपनीयता भंग मिलने पर इसे रद्द करने का फैसला लिया गया. जानकारी के अनुसार बीएसईबी के अध्यक्ष आनंद किशोर ने एसटीईटी को रद्द करने का निर्णय लिया. इस फैसले के बाद अब राज्य के हाई और प्लस टू के शिक्षकों की बहाली पर फिर से संकट गहरा गया है.

हाल ही में जारी हुई थी अधिसूचना

बिहार सरकार ने हाल ही में 34 हजार पदों पर शिक्षकों की बहाली को लेकर अधिसूचना जारी की थी. लेकिन अब परीक्षा रद्द होने के साथ ही भर्ती पर संकट गहरा गया है. उल्लेखनीय है कि एसटीईटी परीक्षा में कुल 2 लाख 43 हजार 141 परीक्षार्थियों ने हिस्सा लिया था.

कब होगी परीक्षा इसका पता नहीं

अब एसटीईटी कब होगा इसको लेकर कोई निर्णय नहीं लिया गया है. जानकारी के अनुसार बिहार बोर्ड ने राज्य सरकार के पास परीक्षा को दोबारा करवाने संबंधी प्रस्ताव भेज दिया है. अब परीक्षा की अगली तिथि क्या होगी इसका अंतिम निर्णय शिक्षा विभाग का होगा और उसी के बाद परीक्षा की तारीख घोषित की जाएगी.

Source: News 18